Type Here to Get Search Results !

Bihar Rajbhawan and Shiksha Vibhag me fir badhi takrar padhe pura mamla

  

Bihar Rajbhawan and Shiksha Vibhag 

हैलो दोस्तो राजभवन-शिक्षा भवन में फिर से टकराव शुरू हो गई है, यहां तक की पत्राचार में भाषा की मर्यादा भी अब टूट गई तो दोस्तो आहिए जानते है, क्यों Bihar Rajbhawan and Shiksha Vibhag मे टकवाव शुरू हो गई हैं। 

Bihar Rajbhawan and Shiksha Vibhag me fir badhi takrar padhe pura mamla
Bihar Rajbhawan and Shiksha Vibhag me fir badhi takrar padhe pura mamla
उच्च शिक्षा निदेशक ने कहा- विभाग की बैठक के लिए राजभवन से अनुमति मांगना मूर्खतापूर्ण होगी। विश्वविद्यालय में अधिकार और हस्तक्षेप को लेकर शिक्षा विभाग व राजभवन में टकराव चरम पर पहुंच गया है। दोनों ओर से जारी लेटर वार में अब भाषा की मर्यादा भी टूटने लगी है। पाटलिपुत्र यूनिवर्सिटी (पीपीयू) के रजिस्ट्रार ने शिक्षा विभाग की बैठक में भाग लेने के लिए राजभवन से अनुमति मांगी थी। रजिस्ट्रार के इस कदम को उच्च शिक्षा निदेशक रेखा कुमारी ने मूर्खतापूर्ण कहा है।
  • पीपीयू  रजिस्ट्रार के नियम-कानून पर सवाल क्यू ?

बुधवार को पीपीयू रजिस्ट्रार को संबोधित पत्र में निदेशक ने नियम-कायदों की उनकी जानकारी पर भी सवाल उठाए हैं। 2-3 मार्च को आयोजित शिक्षा विभाग की कार्यशाला में भाग नहीं लेने पर कारवाई की चेतावनी भी दी है। दरअसल, शिक्षा सचिव बैधनाथ यादव ने 12 फरवरी को विश्वविधालय को पत्र भेजकर चाणक्या लॉ यूनिवर्सिटी में 2-3 मार्च को आयोजित उन्मुखीकरण कार्यशाला में भाग लेने के लिए कहा है। इस कार्यशाला में भागीदारी के लिए पाटलीपुत्र यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार ने राजभवन से अनुमति मांगी। इसके जवाब में राज्यपाल के प्रधान सचिव ने सभी विश्वविधालयों को पत्र भेजकर कार्यशाला में भाग लेने पर रोक लगा दी है। 

  • लेटर वार: राजभवन और शिक्षा विभाग के बीच लगातार पत्राचार 

शिक्षा विभाग और राजभवन के बीच लेटर वार की यह ताजा कड़ी है। शिक्षा विभाग ने 28 फरवरी को अपर मुख्य सचिव की अध्यक्षता में बैठक के लिए सभी कुलपतियों को बुलावा भेजा है। विषय- अकादमिक सत्रों का विलंब से चलना और समय पर परीक्षा नहीं होना है। इससे पहले भी कई बार दोनों के बीच विवि के अधिकारों को लेकर तनातनी हो चुकी है। 

  • पत्र में पीपीयू रजिस्ट्रार से पूछा- अनुमति किस नियम से मांगी 

शिक्षा विभाग, सभी विश्वविधालयों का प्रशासी विभाग है। विभाग की बैठकों में भाग लेने के लिए अनुमति प्राप्त करना मूर्खतापूर्ण है एव किसी स्तर पर अपेक्षित नहीं है। कम से कम कुलसचिव जैसे वरीय पदाधिकारी से नियम/नियमावली की मौलिक जानकारी की अपेक्षा की जाती है। अतः आप यह स्पष्ट करें कि प्रशासी विभाग कि बैठकों में भाग लेने के लिए आपने किस नियम के तहत किसी अन्य प्राधिकार से अनुमति मांगना उचित समझा। वह उल्लेखनीय है कि यह बैठक विभागीय उन्मुखीकरण कार्यक्रम हैं और इसमें भाग लेना आपकी इच्छा पर निर्भर नहीं करता है, बल्कि यह अनिवार्य है। और जो विवि पदाधिकारी उक्त बैठक में भाग नहीं लेंगे, उन पर उचित कारवाई कि जाएगी। 

  • केके पाठक ने अभद्र शब्द का प्रयोग किया, विप सभापति ने जांच के लिए बनाई कमेटी 
Bihar Rajbhawan and Shiksha Vibhag me fir badhi takrar padhe pura mamla
Bihar Rajbhawan and Shiksha Vibhag me fir badhi takrar padhe pura mamla
केके पाठक-अधिकारियों के साथ बैठक में शिक्षकों के लिए विभागीय अपर मुख्य सचिव द्वारा बोले गए अभद्र शब्दों की जांच के लिए विधान परिषद सभापति ने एक कमेटी बनाई है। यह कमेटी सभापति कक्ष में इससे संबंधित वीडियो देखेगी और फिर उचित कारवाई के लिए सरकार से सिफ़ारिश करेगी। कमेटी में एक डिप्टी सीएम, शिक्षा मंत्री के साथ ही पक्ष और विपक्ष के 5-6 सदस्य होंगे। 
  • नितीश बोले- जो इधर-उधर का धंधा नहीं सुनता उसी पर एक्शन लेने को कह रहे
Bihar Rajbhawan and Shiksha Vibhag me fir badhi takrar padhe pura mamla Bihar Rajbhawan and Shiksha Vibhag me fir badhi takrar padhe pura mamla
Bihar Rajbhawan and Shiksha Vibhag me fir badhi takrar padhe pura mamla
नितीश कुमार- विधानसभा में शिक्षकों के साथ भारी नाइंसाफी के आरोप पर विपक्ष के हंगामे के जवाब में मुख्यमंत्री भड़क गए। स्कूल की बदली गई टाइमिंग को वाजिब बताया। शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक की तरफदारी की। कहा-जो अधिकारी इधर-उधर का धंधा करते है। हद है। आप लोगों को पढ़ाई-लिखाई से कोई मतलब नहीं है। 
  • Conclusion :

दोस्तो इस लेख में मैंने आपको बिहार में अभी के समय राजनीतिक गतिविधिया काफी ज्यादा चल रहा है तो ऐसा ही वाक्य हुआ Bihar Rajbhawan and Shiksha Vibhag के साथ दोनों के बीच आपस मे तकरार हो गई है पूरा समझने के लिए आपको ये लेख पूरा पढ़ना चाहिए। और किसी प्रकार का आपका सवाल हो तो आप हमे कमेंट में जरूर पूछे। आप लोगो धन्यवाद हमारे पगे पे आने के लिए 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.